सरकारी महकमें भी कर रहे लोकल से वोकल पर काम

गाय के गोबर से निर्मित मिटटी के दिये बेचने वालो को प्रोत्साहित करने की बनाई योजना
दिलचश्पी रखने वालों को प्रशासन करायेगा दुकाने आवंटित
उरई(जालौन)। आत्म निर्भर भारत की सोच को लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पहल ने अब आम आदमी से लेकर सरकारी महकमों के जिम्मेदार लोगो को भी आगे आने के लिये प्रेरित कर दिया हे यही वजह है कि प्रशासन ऐसी कार्य योजनाओं को साकार रूप देने में जुट गया है जो लोकल को वोकल बनाने की मंशा पर खरी साबित होती हो इसी क्रम बताते चले कि जिला प्रशासन ने गाय के गोबर और मिटटी से बनने वाले दियों को बनाने वालों को प्रोत्साहित करने का मन बनाया है जिसके क्रम में इस कार्य को करने वाले लोगो को प्रशासन दुकाने आवंटित करायेगा।
गौरतलब हो कि बीते कुछ माह पूर्व चीन से निकले कोरोना वायरस के बढते संक्रमण प्रभाव ने वैश्विक स्तर पर दुनिया भर के तमाम देशो की अर्थ व्यवस्था को खासा आघात पहुंचाया भारत पर भी इसका प्रतिकूल प्रभाव दिखा लाक डाउन के दौरान तो स्थितियां बेहद गंभीर हो गयी जब अचानक सबकुछ ठप हो गया ऐसी विषम परिस्थतियों से आम लोगो को बाहर निकालने की मंशा से देश के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने लोकल से वोकल का मंत्र लोगो को दिया जिसका आशय यह था कि लोग अपनी जीवन की आधारभूत जरूरतों की पूर्ति के लिये स्थानीय बाजारों को तैयार करें मतलब साफ था कि हमें स्थानीय वस्तुओं को ही अपने जीवन से जोडना होगा ताकि लोकल लेविल पर ही लोगो को रोजगार मुहैया हो सके। बहरहाल केन्द्र सरकार की उक्त मंशा को लेकर अब शासन और प्रशासन के नुमाइंदों ने पहल तेज कर दी है। यहां जनपद में भी जिला प्रशासन ने इसी सोच को लेकर लोगो को जागरूक करने की दिशा में दीवाली पर जलाये जाने वाले दियों के लिये लोगो को गोबर और मिटटी से बने दियों को इश्तेमाल करने पर बल दिया है। इस संबध में अपरजिलाधिकारी प्रमिल कुमार की माने तो यह बेहद सकारात्मक पहल है इसके लिये आगे आने वाले लोगो को प्रोत्साहित किया जायेगा। मिटटी और गोबर से बने दिये बेचने वालों को प्रशासन दुकाने भी आवंटित करा रहा है।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126