सही वक्त पर उपचार दिला सकता है नई जिंदगी

विषैले सर्प के काटने पर तत्काल ले चिकित्सकीय उपचार
झाड फूंक के चक्कर में पड सकता है जिंदगी से हाथ धोना

उरई(जालौन)।घटनायें होना आम बात है पर उनसें सबक लेना कितना अहम है यह हमारे जीवन जीने के ढंग के प्रति नजरियें को तय करता है जरूरत है कि हम बेहतर परिणाम देने वाले उदाहरणों से न सिर्फ स्वंय सीख ले वल्कि लोगों को भी जागरूक करें जी हां यंग भारत यहां ऐसी कुछ घटनाओं का जिक्र करना समाज हित में जरूरी समझता है जिन्होनें मौत से जूझतें लोगो को समय पर बेहतर उपचार मिलने से नई जिंदगी दी।
ग्रामीण क्षेत्रों में सर्प के काटे जाने की घटनायें होना आम बात है प्राय देखा जाता है कि खेतों पर काम कर रहे किसान मजदूर और कभी कभी घरों में भी सर्प के काटे जाने की घटनायें घट जाती है और लोग अंधविश्वास का सहारा लेकर उनसे बचने के प्रयास करना शुरू कर देते है यही नहीं लोग तब तक चिकित्सालय का रूख नही करते जब तक मरीज की हालत गंभीर नही हो जाती इसके बाद वह जब अस्पताल पहुंचते भी है तो तब तक बहुत देर हो चुकी होती है चिकित्सक भी अपने प्रयासों में कामयाब नही हो पाते और जिंदगी मौत के आगें बेवश हो जाती है। हालाकि अच्छी बात यह है कि विगत कुछ वर्षो से अंधविश्वासों के खिलाफ पिछडें और अशिक्षित क्षेत्रों में भी जागरूकता दिखलाई देने लगी है लोगो का रूढियों और अंधविश्वासों से मोहभंग हो चला है जिसके बेहतर परिणाम भी सामने आये है। बीते कुछ वर्षो की चंद घटनाओं का जिक्र कर लोगो को उनसे प्रेरित करने की पहल के तहत कुछ वाकियां याद रखने लायक है जिनसे स्पष्ट होता है कि लोग मजबूत इच्छाशक्ति और समय पर उपचार से अपनी जिंदगी को काल के गाल से निकलकर अब भी खुशहाली का जीवन जी रहे है। कुछ वर्ष पूर्व ग्राम उदोतपुरा थाना रामपुरा की गुडडी देवी पत्नी विजय सिंह और मुन्नीदेवी पुत्री आजाद निवासी जग्गमनपुर को काले विषधर ने काट लिया जिन्हें परिजन बिना समय गवांये प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र माधैगढ और रामपुरा ले गये जहां चिकित्सकों ने उन्हें पालीवेलैन्ट एंटी वेनिम सीरम वैक्सीन दी और कुछ घंटो के बाद उन्हें बचा लिया गया। इसी तरह से ग्राम जोल्हुपुर निवासी शिक्षक जगरूप सिंह चंदेल सर्प के काटने के बाद अपनी मां को सीधें जिला चिकित्सालय लेकर आये जहां कुछ घंटो के उपचार के बाद उनकी मां को बचा लिया गया समय पर उपचार अनैकों जिंदगी बचाई जा सकी है जिनके उदाहरण सामने आये है लोगो को जरूरत है कि सबक ले और किसी अंधविश्वास में न पडकर सही वक्त पर उपचार ले जिससे जिंदगी को बचाया जा सके।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126