साइबर क्राइम सहित सभी विवेचनाओं को गुण दोष के आधार पर ईमानदारी के साथ निस्तारित करें विवेचक- एसपी

विवेचकों द्वारा विवेचनाओं में लापरवाही अथवा लेन देन की शिकायत सही पाए जाने पर होगी कठोर कार्यवाही
उरई (जालौन)। विवेचक लम्बित विवेचनाओं के निस्तारण में तेजी लाये। 6 माह से पुरानी विवेचनाओं को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारण करें। सभी प्रभारी आईटी से जुड़ी विवेचनाओं को प्राथमिकता व गुण दोष के आधार पर निस्तारण करें यह निर्देश एसपी ने कोतवाली में सर्किल के 3 थानों के अर्दली रूम के निरीक्षण के दौरान कही।
बुधवार को अपरान्ह पुलिस अधीक्षक डा. सतीश कुमार ने सर्किल के जालौन, कुठोंद व सिरसा कलार के थानों के अर्दली रूम का निरीक्षण किया। सबसे पहले उन्होंने कोविड-19 हेल्प डेस्क को देखा तथा डेस्क पर उपलब्ध सेनेटाइजर, मास्क की जानकारी ली साथ ही निर्देश दिए कि बगैर मास्क के अंदर जाने की अनुमति किसी को न दे।कोतवाली की साफ सफाई व दस्तावेज के रखरखाव को देखा तथा संतुष्ट दिखे। इसके बाद उन्होंने मालखाने में रखे शस्त्रों के रखरखाव व कीमती सामान को देखा। भौतिक सत्यापन के बाद एसपी ने लंबित विवेचनाओं की जानकारी ली जिसमें जालौन 55, कुठोंद 39 तथा सिरसा कलार की 23 शिकायतें लंबित मिली जिन्हें शीघ्र निस्तारण के निर्देश दिए। निरीक्षण के बाद पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पिछले निरीक्षण के बाद विवेचनाओं के निस्तारण में तेजी आयी तथा निस्तारण अच्छा हुआ है। कुछ विवेचक लापरवाही कर रहे हैं उन्हें चेतावनी दी गई है तथा महिलाओं, बच्चों से जुड़े अपराधों तथा आईटी के मामलों की विवेचना में शीघ्रता करने के निर्देश दिए हैं। इस मौके पर सीओ सुबोध गौतम, कोतवाल रमेशचंद्र मिश्रा, एसआई आनंद कुमार, चैकी प्रभारी संजीव दीक्षित, गंगासागर, शाहजहां, कुठौंदा अरुण तिवारी, सिरसा कलार ओम प्रकाश वर्मा समेत 3 थानों के विवेचक उपस्थित रहे।