श्रमदानियों के आगे प्रशासन ने घुटने टेक

 ग्राम भंवरपुर को पुलिस ने बना दिया छावनी
पुलिस ने अन्य ग्रामों के श्रमदान यों को भंवर पुराने नहीं दिया
श्रद्धालुओं ने सीडीओ की बात नहीं मानी
महिलाश्रमदानियो की अगुवाई पर लखनऊ कूच के लिए नारे लगाते रहे श्रमदानी
8 घंटे बाद एस डीएम औरश्रमदॎनियो के बीच हुई समझौता वार्ता
6 जुलाई को घरार नदी हुए श्रमदान पर पॗशासन कीआयेगी जांच रिपोर्ट
6 जुलाई बाद श्रमदानी बनाएगे अगली रण नीत
भांवर पुर ( बांदा ) आज * 29 जून को श्रमदान यों ने जो लखनऊ को़च कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सामने न्याय मांगने की घोषणा कर रखी थी उसको लेकर प्रशासन में हड़कंप था | श्रमदानी जो ग्राम भंवरपुर मैं घर आर नदी में श्रमदान करने वाले श्रमदान यों के पक्ष में 6 गांव अलग-अलग श्रमदान कर रहे थे उन्हें भी इस लखनऊ न्याय को़च में सम्मिलित होना था लेकिन बीती 28 जून की रात अतर्रा थाने की पुलिस ने रात 1:30 बजे समाजसेवी राजा भैया को उनके आश्रम से थाने आकर मिलने को कहा जब राजा भैया ने कहा कि वह रात में मिलने नहीं आएंगे और सुबह 7:00 बजे मिलेंगे तो सुबह 7:00 बजे उनके आश्रम को पुलिस ने घेर लिया लेकिन राजा भैया सुबह 6:00 बजे ही निकलकर ग्राम भंवरपुर पहुंच गए थे वहां पर उन्होंने समुदायों के साथ लखनऊ चलने की और मुख्यमंत्री से न्याय मांगने की जो सावधानियों ने लखनऊ लखनऊ को़च की पहले से घोषणा कर दी थी उसकी तैयारियों में लग गए जब पुलिस को राजा भैया नहीं मिले तो सुबह 8:00 बजे ग्राम भांवर पुर मे सीओ नरैनी के नेतृत्व मे थाना नारायणी करतल बदौसा अतर्रा आदि थानों की सशस्त्र पुलिस ने
ग्राम भंवरपुर को सुबह 8:00 बजे से ही छावनी में बदल दिया उन्होंने छह अन्य गांव में श्रमदान कर रहे श्रमदान यों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के यहां न्याय मांगने लखनऊ जा रहे इन समदानी ओके लखनऊ कूच को मे आने से रोक दिया | इसके बाद भी श्रद्धालुओं ने हार नहीं मानी महिलाश्रमदानियो ललिता बृज रानी शांति चंपा प्यारी बाई रिंकी सुनीता रूबिया राजा बाई की अगुवाई में सभी 52 श्रमिक नारेबाजी करने लगे वह नारे लगा रहे थे मुख्यमंत्री हमें न्याय दो हमने घर आर नदी पर श्रमदान किया है हमारे श्रमदान के साथ अन्याय करो सूचना पाकर सीडीओ बांदा हरिश्चंद्र वर्मावीडियो मनोज कुमार के साथ श्रमदान यों के पास आए उनसे वार्ता करनी चा ही श्रम
दानी बोले कि कि हमें ग्राम विकास विभाग से कोई बात नहीं करनी है क्योंकि ग्राम विकास विभाग ने ही हमारे धर आर नदी पर किए गए श्रमदान पर अपना जबरिया मनरेगा का बोर्ड लगा दिया है इसके बाद सीडीओ को वहां से बैरंग लौटना पड़ा। यह जानकारी जब डीएम को हुई तो डीएम ने एस डीएम बी पी सिंह यादव को घटनास्थल पर भेजा उन्होंने पूरी संवेदनशीलता के साथ श्रद्धालुओं से वार्ता की उन्होंने कहा इस पर एक जांच कमेटी बनेगी जो जोक्स अभी 52 श्रमदानियो का बयान लेने के बाद. 6 जुलाई को आपनी जांच रिपोर्ट जारी करगी | इह रिपोर्ट मे सच्चाई सामने आएगी उन्होंने कहा यदि आप को लगता है की रिपोर्ट में सच्चाई नहीं है तो आप 6 जुलाई के बाद अपना निर्णय ले सकते हैं 8 घंटे की मशक्कत के बाद आज शाम 4:00 बजे एसडीएम और समुदायों के बीच समझौता हुआ श्रमदान योने अपना आंदोलन 6 तारीख तक स्थगित करने की घोषणा की चंदानी महिलाओं ने कहा की गंगा कसम हमने घर आर नदी में श्रमदान किया है और ग्राम विकास विभाग हमारे श्रमदान को जबरिया छीन ने की कोशिश कर रहा है एक तरफ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हम श्रमदानियो को भागीरथ कह कर सम्मान करने की घौषणा करते है दूसरी तरफ ग्राम विकास विभाग हमारे श्रमदान को जबरिया मनरेगा का का काम दिखाना चाहता है हम यह होने नहीं देंगे और सच्चाई के लिए हर संघर्ष करेंगे मुख्यमंत्री जी से लखनऊ जाकर न्याय की गुहार लगाएंगे यदि 6 जुलाई को प्रशासन से खास तौर से एसडीएम साहब से यदि हमें न्याय मिल गया तो हम डीएम और एसडीएम के साथ-साथ लखनऊ जाकर न्याय की इस लड़ाई में जीत के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का भी धन्यवाद करने लखनऊ जाएंगे |