सिपाही ने वृद्ध किसान को जमकर पीटा, कान का पर्दा फटा, मूछें उखाड़ने का आरोप

सरकार और पुलिस हाईकमान के द्वारा नागरिकों के साथ सम्मान और सद्भावना बढ़ाने के प्रयास को झटका

ललितपुर: उत्तरप्रदेश सरकार और पुलिस हाईकमान द्वारा अभियान चलाकर पुलिस और नागरिकों के बीच सद्भावना स्थापित करने का भरपूर प्रयास किया जा रहा है। मगर फील्ड में कार्यरत पुलिस के ऊपर इन प्रयासों का कितना असर है। यह सच्चाई ललितपुर पुलिस द्वारा एक वृद्ध की निर्मम पिटाई किये जाने की घटना से उजागर हो जाता है। आरोप है कि सिपाही ने बुजुर्ग के कान का पर्दा फाड़ दिया, मूछ उखाड़ दी। इस घटना के बाद आरोपी सिपाही को लाइन हाजिर कर दिया गया गया है। यही नहीं, मामले में बुजुर्ग किसान का मेडिकल परीक्षण कराने के भी निर्देश दिए गए हैं।

ललितपुर जिले के थाना जखौरा अंतर्गत ग्राम बांसी के मजरा खिरकन निवासी बुजुर्ग किसान सिरनाम (71) पुत्र पिन्ने यादव ने थानाध्यक्ष जखौरा को प्रार्थना पत्र दिया है। इसमें उन्होंने बताया है, ’13 अगस्त की रात गांव के ही निवासी जस्सू यादव की बकरी को किसी आवारा कुत्ते ने खा लिया था। इसका आरोप जस्सू ने मेरे पालतू कुत्ते पर लगाते हुए बांसी पुलिस चौकी में प्रार्थना पत्र दिया था। इसके बाद बांसी पुलिस चौकी में तैनात सिपाही ने मुझे 14 अगस्त को चौकी में बुलाया। मैं जब चौकी पहुंचा तो सिपाही ने पैसे की मांग की। जब मैंने कहा कि मेरे कुत्ते ने बकरी को नहीं खाया है । इस पर सिपाही ने मारपीट की, जिसकी वजह से मेरे कान के पर्दे फट गए। इसके बाद जबरन 1900 रुपये लेकर राजीनामा करा दिया गया।’

एक और शख्स से की गई वसूली
बुजुर्ग ने बताया कि इसके बाद गांव के ही निवासी ज्ञानी कुशवाहा पुत्र बाबू लाल को सिपाही ने बुलाया और उससे भी पैसे मांगे गए कि उसके कुत्ते ने बकरी को खा लिया है । इसके बाद ज्ञानी से भी जबरन 6000 रुपये ले लिए गए । इस मामले को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया और 16 अगस्त को सभी ग्रामीणों ने थाना जखौरा पहुंचकर हंगामा किया। लोगों ने सिपाही के खिलाफ मामला दर्ज किए जाने की मांग की थी।

सिपाही को किया गया लाइनहाजिर
इस मामले को गंभीरता से लेते हुए अपर पुलिस अधीक्षक डॉ बृजेश सिंह ने तत्काल प्रभाव से आरोपी सिपाही को लाइन हाजिर कर दिया और बुजुर्ग किसान का मेडिकल परीक्षण कराए जाने के निर्देश दिए। इसके अलावा पूरे मामले की जांच क्षेत्राधिकारी तालबेहट को सौंप दी।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126