प्रवासी मजदूरों को घर भेजने एक हफ्ते तक रोजाना चलेंगी 40 स्पेशल ट्रेनें

अमर भारती : देश में हुए लॉकडाउन की वजह से हजारों मजदूर अलग-अलग राज्यों में फंस गए हैं जो घर लौटने का इंतजार कर रहे हैं। कोरोना महामारी की वजह से देश में हुए लॉकडाउन ने सबसे ज्यादा फजीहत मजदूरों और कामगारों की कर दी है। देश के अलग-अलग राज्यों में हजारों मजदूर फंसे हुए हैं। वे अपने घर लौटने का इंतजार कर रहे हैं। कई मजदूरों को तो लॉकडाउन की वजह से दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो सकी है।

ऐसे में हजारों मजदूरों ने तो पैदल ही अपने घर का सफर शुरू कर दिया। मजदूरों के मुश्किल हालातों को देखते हुए अब जाकर केंद्र सरकार ने राज्यों की आपसी सहमति से मजदूरों को घर पहुंचाए जाने की राह आसान की है। कुछ वक्त पहले सरकार द्वारा 6 स्पेशल श्रमिक ट्रेनें चलाई गई थीं। अब तेलंगाना राज्य ने अपने यहां फंसे मजदूरों की चिंता करते हुए उनके लिए एक हफ्ते तक रोजाना 40 स्पेशल ट्रेनें चलाने का निर्णय लिया। इस ट्रेनों को चलाने की शुरुआत मंगलवार से होने जा रही है।

40 स्पेशल ट्रेनों से घर पहुंचाएंगे तेलंगाना सरकार ने निर्णय लिया है कि एक हफ्ते तक रोजाना 40 स्पेशल ट्रेनें चलाई जाएंगी। इन ट्रेनों से राज्य के अलग-अलग इलाकों में फंसे मजदूरों को उनके घर भेजने की व्यवस्था की जाएगी। राज्य की हाई लेवल रिव्यू मीटिंग में मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव, स्वास्थ्य मंत्री Eetela Rajender, चीफ सेक्रेटरी दिनेश कुमार, डीजीपी महेंद्र रेड्डी ने प्रवासी मजदूरों की समस्याओं और उनके वापस घर लौटने की इच्छा पर चर्चा की। इसके बाद ट्रेनों के संचालन का निर्णय लिया गया।