5.51 लाख दिये जलाकर टूटेगा रिकॉर्ड, रामलला के दरबार में दिये जला पाएंगे रामभक्त, PM मोदी भी होंगे शामिल

अयोध्या: 500 सालों की प्रतीक्षा के बाद अयोध्या में भगवान राम की जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण जारी है। ऐसे में इस बार योगी सरकार ‘दीपोत्सव’ को खास बनाने में जुटी है। इस बार भगवान राम के भक्त आस्था व विश्वास के साथ अपने प्रभु के दरबार में वर्चुअल तरीके हाजिरी लगा पाएंगे, साथ ही उनके समक्ष दीप भी प्रज्जवलित कर आशीर्वाद पाने की भी व्यवस्था की जा रही है। दीप जलाने के बाद जिला प्रशासन धन्यवाद पत्र देगा। यह क्षण ऐसा होगा कि आप स्वयं दीपोत्सव में शामिल हैं। सीएम योगी के साथ सेल्फी भी लेने की व्यवस्था। इन सब अत्याधुनिक व्यवस्थाओं के लिए योगी सरकार एक वेबसाइट तैयार करा रही है। अयोध्या दीपोत्सव में पीएम नरेंद्र मोदी भी वर्चुअल तरीके से जुड़ेंगे।
अपर मुख्य सचिव गृह ने तैयारियों का लिया जायजा
दीपोत्सव की तैयारियों का जायजा लेने के लिए रविवार को अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी अयोध्या पहुंचे हैं। उनके साथ अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल, एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार, एडीजी जोन एसएन साबत भी मौजूद हैं। राम की पैड़ी व राम कथा पार्क का अफसरों ने निरीक्षण किया है। पिछले साल 4.26 लाख दीपक जलाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया गया था। इस बार 5.50 लाख दिये जलाकर गिनीज बुक ऑफ रिकार्ड बनाने का लक्ष्य रखा गया। दिये जलाने का काम अवध विश्वविद्यालय को सौंपा गया है।
11 झांकी निकलेगी, रामकथा पार्क में होगा राज्याभिषेक
इस दौरान साकेत महाविद्यालय से भगवान राम के प्रसंगों पर आधारित 11 झांकी निकाली जाएगी, जो राम कथा पार्क तक जाएगी। झांकी में हनुमान के द्वारा लंका दहन व अहिल्या उद्धार आकर्षण का केंद्र रहेगी। योगी सरकार अपराधियों के दहन व नारी शक्ति के उद्धार के रुप में अहिल्या की झांकी दिखाएगी। भगवान राम व सीता पुष्पक विमान से अयोध्या पहुंचेंगे, जहां पर उनकी अगुवानी मुख्यमंत्री योगी करेंगे। राम कथा पार्क में उनका राज्याभिषेक किया जाएगा। उसके बाद रामलला के दरबार और राम की पैड़ी से मुख्यमंत्री दीप प्रज्जवलित करेंगे।
मौजूदगी का अनुभव देगा वर्चुअल दीपोत्सव
प्रदेश सरकार द्वारा तैयार कराया जा रहा यह अनूठा वर्चुअल दीपोत्सव प्लेटफार्म बिल्कुल रियल जैसा अनुभव देगा। पोर्टल पर श्रीरामलला विराजमान की तस्वीर होगी। जिसके समक्ष दीप वर्चुअल दीप प्रज्ज्वलन होगा।यहां सुविधा होगी कि श्रद्धालु अपने भाव के अनुसार मिट्टी, तांबे, स्टील अथवा किसी अन्य धातु के दीप-स्टैंड का चयन करे। घी, सरसों अथवा तिल के तेल का विकल्प भी उपलब्ध होगा। यही नहीं श्रद्धालु अगर पुरुष है तो पुरुष अथवा महिला होने पर महिला के वर्चुअल हाथ दीप प्रज्ज्वलित करेंगे। दीप जलाने के बाद श्रद्धालु के विवरण के आधार पर रामलला की तस्वीर के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की ओर से धन्यवाद-पत्र भी जारी होगा। 13 नवम्बर को प्रस्तावित मुख्य समारोह से पूर्व यह वेबसाइट आमजन के लिए उपलब्ध हो जाएगा।
भव्यता में कमी नहीं पर कोविड प्रोटोकॉल का अनुपालन जरूरी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या दीपोत्सव को भव्य-दिव्य बनाने के निर्देश दिए हैं, लेकिन स्पष्ट कहा है कि कहीं भी कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन नहीं होना चाहिए। प्रतिदिन अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित करने के निर्देश दिए गए हैं। जितने भी कार्यक्रम होंगे सभी में कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा है कि दीपोत्सव पर राम की पैड़ी के साथ सभी मठ मंदिरों व घरों में ऐसे दीप जलेंगे, जिससे भगवान राम की नगरी अयोध्या दीप के प्रकाश से पूरी तरह से आलोकित हो जाए। इस बार करीब साढ़े पांच लाख दीप जलाने की तैयारी है। मुख्यमंत्री योगी रामायण के प्रसंगों पर आधारित झांकियों का अवलोकन करेंगे। साथ ही, श्रीराम, सीता और लक्ष्मण के स्वरूप, की आरती कर श्री राम का राज्याभिषेक करेंगे। मुख्यमंत्री जन्मभूमि परिसर में रामलला की आरती भी उतारेंगे। अयोध्या दीपोत्सव की तैयारियों पर मुख्यमंत्री की सीधी नजर है।
संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.
सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126