7 सितंबर से होगा राष्ट्रीय पोषण माह का शुभारंभ

पोषण माह में गंभीर कुपोषित बच्चों की पहचान कर उपचार मुहैया कराया जाएगा

उरई (जालौन)। सितंबर माह को राष्ट्रीय पोषण माह के रुप में मनाया जाना है। इसकी शुरूआत 7 सितंबर सोमवार से होगी। इस माह में गंभीर तीव्र कुपोषित सेवेयर एक्युट मालन्यूट्रीशियन (सेम) बच्चों की पहचान कर उन्हें उपचार मुहैया कराया जाना है। इसके लिए बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की तरफ से अभियान चलाया जाएगा। जिला कार्यक्रम अधिकारी गुलाब सिंह ने इस बाबत कार्यालय में बैठक लेकर बाल विकास परियोजना अधिकारियों को निर्देशित किया।
जिला कार्यक्रम अधिकारी गुलाब सिंह ने बताया कि पोषण संबंधी गतिविधियों के आयोजन में सामाजिक भागीदारी बढ़ाने के लिए साल 2018 से  देश भर में सितंबर माह को राष्ट्रीय पोषण माह के रुप में मनाया जाता है। इसमें बाल विकास पुष्टाहार विभाग के अलावा स्वास्थ्य, पंचायतीराज, शिक्षा, ग्राम्य विकास, युवा एवं खेल, आयुष, आवास एवं शहरी नियोजन, सूचना, समाज कल्याण समेत 15 विभागों की सहभागिता होती है। इस माह में प्रमुख रुप से दो गतिविधियों पर जोर दिया जाएगा। इसमें सैम बच्चों का चिह्नांकन करना और वृक्षारोपण के लिए अभियान चलाया जाना है। इसके लिए स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्रों में किचन गार्डन को प्रोत्साहित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि किचन गार्डन विकसित करने के लिए दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। इस बार कोरोना संक्रमण के सामूहिक कार्यक्रम नहीं होंगे। लिहाजा पोषण विषय पर आनलाइन प्रतियोगिता, डिजिटल पोषण पंचायत, वेबिनार जैसे गतिविधियां आयोजित की जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी विभागीय अधिकारियों, कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है कि कार्यक्रम के दौरान सोशल डिस्टेसिंग और कोविड प्रोटोकाल का पालन किया जाए।

संजय श्रीवास्तव-प्रधानसम्पादक एवम स्वत्वाधिकारी, अनिल शर्मा- निदेशक, डॉ. राकेश द्विवेदी- सम्पादक, शिवम श्रीवास्तव- जी.एम.

सुझाव एवम शिकायत- प्रधानसम्पादक 9415055318(W), 8887963126