अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर साधा निशाना

सोमवार को उत्तर प्रदेश में जोन के हिसाब से इलाकों में लॉकडाउन के नियमों में कुछ छूट दी गई। केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा जारी किए गए दिशानिर्देशों के आधार पर उत्तर प्रदेश की सरकार ने लॉकडाउन में रियायत देने का फैसला लिया है।

इसी के तहत सोमवार सुबह 10 से शाम सात बजे तक शराब की एकल दुकानें खुलीं। 45 दिन बाद दुकाने खुलने पर आलम ये था की कई जगहों पर सुबह 5 बजे से ही शराब लेने के लिए लाइन में खड़े हो गए।

वहीं, कई दुकानों के बाहर तो एक किलोमीटर तक लंबी कतार लग गई थी और सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जिया उड़ाई जा रही थी। लोगों ने अधिक से अधिक मात्रा में शराब की खरीदारी की। कई लोग बोतलें को बैग में भरते नजर आए तो कुछ लोगों ने पेटी ही खरीद ली।

शराब की दुकानों को बाहर लोगों की लंबी कतारों को लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर निशाना साधा है। अखिलेश ने ट्विटर पर तंज कसते हुए दुकान के बाहर लगी कतार की तस्वीर साझा की।

उन्होंने लिखा कि भाई साहब, कृप्या ये बताएं कि पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था तक पहुंचने के लिए क्या इसी लाइन में लगना है? उनका निशाना सरकार की पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था बनाने की योजना और लॉकडाउन के बीच शराब की दुकानें खोलने की अनुमति पर था।

मालूम हो कि प्रदेश सरकार ने केवल ऑरेंज और ग्रीन जोन में आने वाले जिलों में ही यह छूट दी है। रेड जोन या कंटेनमेंट इलाकों में लॉकडाउन के नियमों में किसी तरह की राहत नहीं है।

बता दें कि प्रदेश के फिलहाल 19 जिले रेड जोन में, 36 ऑरेंज जोन में और 20 ग्रीन जोन में हैं। सभी जोन में 65 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों, 10 साल से छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं के घर से बाहर निकलने पर पूरी तरह पाबंदी है।