कोरोना का बड़ा असर शिक्षा पर भी पड़ेगा

अमर भारती : कोरोना से आने वाले समय में शिक्षा के क्षेत्र पर भी बड़ा असर दिख सकता है। शिक्षण संस्थानों की ग्लोबल रैकिंग करने वाली संस्था क्वाकक्वैरली साइमंड्स (क्यूएस) की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना से विदेश जाकर पढ़ाई करने का फैसला कर चुके 48.46 फीसदी छात्रों पर असर होगा। भारतीय छात्र देश में दूसरे राज्यों में जाकर पढ़ने पर भी सोचेंगे।

क्यूएस के विशेषज्ञों का कहना है कि विदेशों में पढ़ाई पहले से महंगी है और अब पढ़ाई के बाद कोरोना के चलते नौकरियों के मौके भी कम होंगे। इसलिए इस तरह की संभावना जताई जा रही है। ‘इंडियन स्टूटेंट्स मोबिलिटी रिपोर्ट 2020: इंपैक्ट ऑफ कोविड-19 ऑन हायर एजुकेशन’ शीर्षक से प्रकाशित रिपोर्ट में बताया है

कि विदेश जाकर पढ़ाई का फैसला करने वाले 48.6 फीसदी पर कोरोना का असर दिखेगा। विज्ञान और तकनीक, इंजीनियरिंग और गणित के छात्र विदेश में पढ़ने के अपने फैसले पर दोबारा विचार करेंगे। विशेषज्ञों का मानना है कि बहुत सारे शिक्षण संस्थान ई-लर्निंग पर जोर देंगे जिससे छात्रों के प्रवास पर लंबे समय तक असर दिख सकता है।