कोरोना मरीजों के लिए CSIR-NAL ने 36 दिन में बनाया नॉन-इनवेसिव वेंटिलेटर ‘स्वस्थ वायु’

अमर भारती : वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की नेशनल एयरोस्पेस लेबोरेटरी (एनएएल) ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए एक नॉन-इनवेसिव वेंटिलेटर बीपैप (बीआईपीएपी) बनाया है। वेंटिलेटर को रिकॉर्ड 36 दिनों के भीतर तैयार कर लिया गया है। इसे ‘स्वास्थ्य वायु’ नाम दिया गया है। सीएसआईआर-एनएएल के निदेशक जेजे जाधव ने बताया

कि टीम ने एयरोस्पेस डिजाइन डोमेन में अपनी विशेषज्ञता के आधार पर स्पिन-ऑफ तकनीक को सक्षम किया है। एनएएल हेल्थ सेंटर में इस प्रणाली के कड़े बायोमेडिकल परीक्षण और बीटा क्लिनिकल परीक्षण हुए हैं। वैश्विक अनुभव के आधार पर और भारत व विदेश में मौजूद विशेषज्ञों से परामर्श के बाद इसे तैयार किया गया है। यह बाहरी ऑक्सीजन कंसंटेटर से जुड़ा होता है। यह मध्यम या मध्यम स्तर के गंभीर कोरोना मरीजों का इलाज करने में सक्षम होगा। इन्हें इनवेसिव वेंटिलेशन की आवश्यकता नहीं होती है।