हजारों लोगों को कोरोना वायरस से कैसे बचा सकता है Aarogya Setu App, जानिए लखनऊ की सच्ची कहानी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बार-बार आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) डाउनलोड करने की अपील कर रहे हैं। अब लखनऊ से प्रमाण मिला है कि यह एक ऐप किस तरह से हजारों लोगों की जान बचा सकता है। लखनऊ के पीजीआई क्षेत्र की रहने वाली एक महिला के कोरोना संक्रमित घोषित होने के बाद उसकी जानकारी Aarogya Setu App से लिंक होते ही मरीज के घर के 1 किमी दायरे रहने वाले लोगों के मोबाइल फोन पर उनके आसपास कोरोना पॉजिटिव मरीज होने के नोटिफिकेशन आने लगे। अलर्ट मिलता ही लोग सावधान हो गए और खुद के लिए बरती जाने वाली सावधानियों को और पुख्ता कर लिया।

सब दे रहे Aarogya Setu App को धन्यवाद

इसके बाद लोग Aarogya Setu App की तारीफ कर रहे हैं। उनका कहना है कि यदि यह ऐप नहीं होता तो शायद महिला से हुआ संक्रमण बाकी लोगों तक भी पहुंच जाता।

पीजीआई क्षेत्र में ऐसे आया कोरोना वायरस

पीजीआई क्षेत्र के सेनानी विहार निवासी महिला देहरादून से लौटी थी। उसे सर्दी जुकाम और बुखार की शिकायत थी। कोरोना वायरस की आशंका होने पर 3 दिन पहले निजी लैब से जांच करवाई गई थी। इसमें कोरोना वायरस की पुष्टि हुई। लैब ने मरीज की रिपोर्ट केंद्र सरकार, समेत विभिन्न सरकारी संस्थानों को भेज दी।

ऐसे में मरीज का ब्योरा Aarogya Setu App से लिंक हुआ। लिहाजा, उसके घर के आस-पास रहने वाले लोगों के मोबाइल पर नोटिफिकेशन आने लगे। जिसके बाद लोगों ने सीएमओ कंट्रोल रूम फोन किया। जिसके बाद क्षेत्र में हेल्थ टीम भी पहुंची।