फिर पढ़ाई में जुटीं भारत की पहली कोरोना मरीज, पूरी तरह ठीक हुई मेडिकल की छात्रा

अमर भारती : कोरोना वायरस संक्रमण के खौफ के माहौल के बीच अच्छी खबर है।भारत की पहली कोरोना मरीज रहीं केरल की 20 वर्षीय मेडिकल की छात्रा अब फिर अपनी पढ़ाई में जुट गई हैं। बता दें कि ये मेडिकल छात्रा चीन के वुहान स्थित विश्वविद्यालय से ऑनलाइन क्लासेस के जरिए पढ़ाई में व्यस्त हैं। जानकारी के मुताबिक ये मेडिकल छात्रा त्रिशूर जिले में अपने घर पर ही हैं और उसने पढ़ाई शुरू कर दी है।

इस मेडिकल छात्रा ने बताया- मैं हमारे विश्वविद्यालय की ऑनलाइन क्लासेस में शामिल हो रही हूं। विषय के आधार पर ये क्लासेस प्रतिदिन होती हैं। हमें बताया गया था कि जो चीजें हमें पढ़ाई जा रही हैं उन्हें नियमित क्लासेस शुरू होने के बाद फिर से पढ़ाया जाएगा क्योंकि प्रेक्टिकल्स भी होने हैं। वुहान विश्वविद्यालय में तीसरे वर्ष की इस मेडिकल छात्रा का 30 जनवरी को कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था और वह भारत में कोरोना की पहली मरीज थीं।

त्रिशूर मेडिकल कॉलेज में करीब तीन हफ्ते इलाज के बाद दो बार उनका कोरोना टेस्ट निगेटिव आया था और 20 फरवरी को उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया था। छात्रा ने कहा- ऐसा लगता है कि वुहान में अब कोई मरीज नहीं है। हमें यही बताया गया है। उन्होंने कहा कि वह वुहान लौटने के प्रति उत्सुक हैं, लेकिन पहले विमान सेवा शुरू हो। बता दें कि चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने रविवार को घोषणा की थी

कि वुहान में कोविड 19 के अंतिम मरीज को भी अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। छात्रा से जब पूछा गया कि जब उनका कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था तो क्या वह भयभीत थीं, इस पर उनका कहना था – जब मेरा सैंपल रिजल्ट आया था तो दुनिया में कई लोग ठीक हो चुके थे। मैं भयभीत नहीं थी और मुझे स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या भी नहीं थी। अस्पताल में रहने के दौरान मुझे कभी बुखार नहीं आया।