महिलाओं को आज से मिलेगी 500 रुपए की दूसरी किस्त

अमर भारती : जनधन खाताधारक महिलाओं के लिए अच्छी खबर है। सरकार ने 500 रुपए की दूसरी किस्त जारी कर दी है। यह राशि सोमवार से बैंकों द्वारा खातों में जमा करना शुरू कर दिया जाएगा। इसके साथ ही सरकार ने खातों से पैसे निकालने की जो व्यवस्था बनाई है, उसके अनुसार महिलाएं बैंक पहुंचकर पैसे निकाल सकती हैं। भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ फायरनेंशियल सर्विसेस के अनुसार, जिन Jan Dhan Account नंबर के आखिरी में 0 या 1 है, वो सोमवार को ही राशि निकाल सकते हैं। इसी तरह जिन Jan Dhan Account संख्या के आखिरी में 2 और 3 हैं, वो 5 मई को बैंक पहुंचकर राशि निकाल सकते हैं।

इसी तरह जिन Jan Dhan Account के आखिरी के अंक 4 और 5 हैं, वो 6 मई को बैंक पहुंचें। जिनकी खाता संख्या के आखिरी में 6 और 7 हैं, वो 8 मई और इसी तरह खाता संख्या के आखिरी में 8 और 9 होने पर 11 मई को राशि निकाल सकेंगे। यह व्यवस्था इसलिए की गई है ताकि कोरोना वायरस के खिलाफ शारीरिक दूरी के नियमों का पालन किया जा सके और बैंकों में भीड़ न लगे। फाइनेंशियल सर्विंसेज सचिव देबाषीष पांडा ने एक ट्वीट के माध्यम से कहा कि लाभार्थी महिलाएं अपने खाते का अंतिम अंक देख लें और उसी हिसाब से रकम निकासी के लिए जाएं। इस रकम की निकासी बैंकों, सीएसपी, एटीएम और बैंकिंग कोरेस्पांडेंट्स के माध्यम से हो सकती है। क्या होगा यदि इस अवधि में राशि नहीं निकाल पाएं यदि किसी कारण से खाताधारक उपरोक्त निर्धारित दिन पर बैंक नहीं पहुंच पाता है तो वह 11 मई के बाद अपनी सुविधा के अनुसार किसी भी दिन बैंक जाकर राशि निकाल सकता है।

इस तरह से निश्चित तारीख से बैंक पहुंचकर राशि निकालने की व्यवस्था अप्रैल में पहली बार लागू हुई थी। तब सरकार ने कोरोना संक्रमण की मार झेल रही गरीब महिलाओं के 20 करोड़ खातों में राशि जमा की थी। तीन महीने तक दिए जाने हैं 500-500 रुपए केंद्र सरकार की घोषणा के अनुसार, महिलाओं के Jan Dhan Account में तीन महीनों के लिए यह राशि जमा की जाना है। पहली किश्ते अप्रैल में जमा हुई थी। अब मई में दूसरी किश्त जमा की जा रही है। सरकार ने लोगों से अपील की है कि वे किसी तरह की अफवाहों पर ध्यान न दें। पिछली बार किसी ने अफवाह उड़ा दी थी कि सरकार यह राशि वापस लेगी, जबकि ऐसा नहीं है। गौरतलब है कि मार्च में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लॉकडाउन संकट में कुछ राहत के लिए जन धन खाताधारक गरीब महिलाओं को अप्रैल, मई और जून में पांच-पांच सौ रुपये की वित्तीय मदद देने की घोषणा की थी।